रफ़ू

सी सी गयी है
रूह में उनकी
मेरी रूह-ओ-ज़ीस्त
कुछ यूँ
की मुहब्बत
ने अब मुझे

रफ़ू कर दिया है