बनते बिगड़ते बुलबुले

बरसात के पानी से

बनते बिगड़ते बुलबुले

मुझको याद दिलाते हैं

वो वक़्त जो हमने

साथ गुज़ारा था

और हाँ

फिर ये भी याद आता है मुझे

हमने कोई बरसात

साथ नहीं गुज़ारी